सांझा करें ट्विटर पर सांझा करें व्हाट्सएप पर सांझा करें फेसबुक पर सांझा करें
Google Play पर पाएं
हिन्दी शब्दकोश से कालकण्ठ शब्द का अर्थ तथा उदाहरण पर्यायवाची एवं विलोम शब्दों के साथ।

कालकण्ठ (संज्ञा)

२. संज्ञा / सजीव / जन्तु / पक्षी

अर्थ : एक प्रकार की चिड़िया जिसका गला और पंख नीले होते हैं।

उदाहरण : दशहरे के दिन नीलकंठ देखना शुभ माना जाता है।

पर्यायवाची : कालकंठ, चाल, चाष, चाषपक्षी, तोकक, नीलकंठ, पुण्यदर्शन, शकुंत, शकुन्त, स्वर्णचूड़, स्वर्णचूड़क, स्वर्णशिख

कबुतराच्या आकाराचा, शेपटी आणि पंखांचा रंग सुरेख निळा असलेला एक पक्षी.

नीळकंठ बसला असता त्याचा पिसार गडद व मंद वाटतो.
चाश, चास, टटास, टाश्या, टास, टासल्या, तास, नीळकंठ
३. संज्ञा / सजीव / जन्तु / पक्षी

अर्थ : एक पक्षी जो शरत् और शीतकाल में दिखाई देता है।

उदाहरण : एक लोक कथा के अनुसार नाग के फन पर बैठा हुआ खंजन देखना बहुत ही शुभ होता है।

पर्यायवाची : कालकंठ, खंजन, खंडरिच, खण्डरिच, चरट, झाँपो, तातन, भद्र, मदनपक्षी, ममोला

Old World bird having a very long tail that jerks up and down as it walks.

wagtail
४. संज्ञा / सजीव / जन्तु / पक्षी

अर्थ : नर गौरैया।

उदाहरण : चिड़े की चोंच काली होती है।

पर्यायवाची : कामी, कालकंठ, गरगवा, गौरा, चिड़ा, चित्रपृष्ठ

हनुवटी, गळा आणि छातीचा वरचा अर्धा भाग काळा असलेला, राखाडी रंगाचा, चोचीच्या बुडापासून निघून डोळ्यातून एक तांबूस काळापट पट्टा जातो असा, लहान आकाराचा, एका पक्ष्यातील नर.

चिमण्याची चोच उन्हाळ्यात काळ्या रंगाची होते.
चिमणा
मुहावरे भाषा को सजीव एवं रोचक बनाते हैं। हिन्दी भाषा के मुहावरे यहाँ पर उपलब्ध हैं।