सांझा करें ट्विटर पर सांझा करें व्हाट्सएप पर सांझा करें फेसबुक पर सांझा करें
Google Play पर पाएं
हिन्दी शब्दकोश से ठसक शब्द का अर्थ तथा उदाहरण पर्यायवाची एवं विलोम शब्दों के साथ।

ठसक (संज्ञा)

१. संज्ञा / निर्जीव / अमूर्त / मनोवैज्ञानिक लक्षण

अर्थ : अपने आपको औरों से बहुत अधिक योग्य, समर्थ या बढ़कर समझने का भाव।

उदाहरण : अहंकार आदमी को ले डूबता है ।
किस बात की अकड़ है तुमको!।

पर्यायवाची : अकड़, अनति, अभिमति, अभिमान, अवलेप, अवलेपन, अवश्याय, अवष्टंभ, अवष्टम्भ, अहं, अहंकार, अहंकृति, अहंता, अहङ्कार, अहङ्कृति, अहमिति, अहमेव, अहम्मति, आटोप, आन, ऐंठ, ऐंठन, कल्क, ख़ुदी, खुदी, गडंग, गरूर, गर्व, ग़रूर, ग़ुरूर, गारो, गुमान, गुरूर, घमंड, घमण्ड, दंभ, दम्भ, दर्प, दाप, पर्वरीण, प्रागल्भ्य, मगरूरी, मद, मान, शान, शेख़ी, शेखी

ठसक के संभावित विलोम शब्द :- अपमान, नम्रता, निरभिमान, विनम्रता, विनय

मुहावरे भाषा को सजीव एवं रोचक बनाते हैं। हिन्दी भाषा के मुहावरे यहाँ पर उपलब्ध हैं।