सांझा करें ट्विटर पर सांझा करें व्हाट्सएप पर सांझा करें फेसबुक पर सांझा करें
Google Play पर पाएं
हिन्दी शब्दकोश से परपञ्च शब्द का अर्थ तथा उदाहरण पर्यायवाची एवं विलोम शब्दों के साथ।

परपञ्च (संज्ञा)

१. संज्ञा / निर्जीव / अमूर्त / कार्य / असामाजिक कार्य

अर्थ : वह काम जो किसी को धोखे में डाल कर कोई स्वार्थ साधने के लिए किया जाए।

उदाहरण : उसने छल से पूरी जायदाद अपने नाम करा ली ।
वह अपने छल में कामयाब नहीं हुआ।

पर्यायवाची : अनभोरी, अनुपधा, अभिसंधान, अभिसन्धान, उपधा, कपट, काट, कारस्तानी, कारिस्तानी, कुमैड़, कूटता, कैतव, चार सौ बीसी, चालबाज़ी, चालबाजी, चालाकी, छल, छल-कपट, छल-छंद, छलावा, जालसाजी, जोग, झपकी, झाँई, झाँई-झप्पा, ठगी, दुराव, धंधला, धूर्तता, धोखा, धोखाधड़ी, धोखेबाज़ी, धोखेबाजी, पटेबाज़ी, पटेबाजी, परपंच, प्रतारणा, प्रपंच, प्रपञ्च, फरेब, फर्जीवाड़ा, फेर-फार, फेर-बदल, फेरफार, फ्राड, फ्रॉड, बकमौन, बकमौनता, मक्कारी, माल, योग, वंचकता, वंचना, व्याज, शठता

The act of deceiving.

deceit, deception, dissembling, dissimulation
२. संज्ञा / निर्जीव / अमूर्त / कार्य / असामाजिक कार्य

अर्थ : व्यर्थ की परेशानी।

उदाहरण : मैं कहाँ इस झंझट में पड़ गई!।

पर्यायवाची : अपतान, अपताना, अवसेर, आल, कबाड़ा, जंजाल, झंझट, झमेला, पचड़ा, परपंच, प्रपंच, प्रपञ्च, फेर, बखेड़ा, साँसत, सांसत

An angry disturbance.

He didn' t want to make a fuss.
bother, fuss, hassle, trouble
३. संज्ञा / निर्जीव / अमूर्त / कार्य

अर्थ : वह आचरण, काम आदि जिसमें ऊपरी बनावट का भाव रहता है।

उदाहरण : संत कबीर ने पाखंड पर तीखा व्यंग किया है।

पर्यायवाची : अटब्बर, अड़ाड़ा, आडंबर, आडम्बर, चमक दमक, चमक-दमक, टीम-टाम, टीमटाम, ठाट, ठाटबाट, ढकोसला, ढचर, ढोंग, तड़क भड़क, तड़क-भड़क, तमेला झमेला, तमेला-झमेला, ताम झाम, ताम-झाम, तामझाम, दिखावटीपन, दिखावा, परपंच, पाखंड, पाखण्ड, पाषंड, पाषण्ड, प्रपंच, प्रपञ्च, बनावट, बाँकपन, बांकपन, लिफ़ाफ़ा, लिफाफा

Pretending that something is the case in order to make a good impression.

They try to keep up appearances.
appearance, show
४. संज्ञा / निर्जीव / अमूर्त / बोध

अर्थ : कोई ऐसा कार्य या बात जो वास्तविक या सत्य न रहने पर भी सत्य और ठीक जान पड़े।

उदाहरण : हम सांसारिक माया में फँसे हुए हैं।
माया दीपक नर पतंग भ्रमि-भ्रमि इवैं पड़ंत, कहें कबीर गुरु ग्यान ते एक आध उबरंत।

पर्यायवाची : अनीश, अविद्या, इंद्र-जाल, इंद्रजाल, इन्द्र-जाल, इन्द्रजाल, परपंच, प्रपंच, प्रपञ्च, भव-विलास, माया

मुहावरे भाषा को सजीव एवं रोचक बनाते हैं। हिन्दी भाषा के मुहावरे यहाँ पर उपलब्ध हैं।