सांझा करें ट्विटर पर सांझा करें व्हाट्सएप पर सांझा करें फेसबुक पर सांझा करें
Google Play पर पाएं
हिन्दी शब्दकोश से पवित्रक शब्द का अर्थ तथा उदाहरण पर्यायवाची एवं विलोम शब्दों के साथ।

पवित्रक (संज्ञा)

१. संज्ञा / सजीव / वनस्पति

अर्थ : काँस की तरह की एक घास जिसका उपयोग कुछ धार्मिक कृत्यों में होता है।

उदाहरण : हिंदू धार्मिक अनुष्ठानों में कुश की आवश्यकता पड़ती है।

पर्यायवाची : अर्भ, कुश, कुशा, चात्वाल, डाब, डाभ, दर्भ, दाभ, दाव, पितृषदन, ब्रह्मपवित्र, वर्हा, शार

यज्ञ,होम हवन यात वापरले जाणारे एक प्रकारचे पवित्र गवत.

धार्मिक कृत्यात दर्भाचे महत्व आहे
दर्भ
२. संज्ञा / सजीव / वनस्पति / झाड़ी

अर्थ : एक प्रकार का पौधा जिसकी पत्तियाँ गुलदावदी के समान कटावदार होती हैं।

उदाहरण : दौने की पत्तियों से तीक्ष्ण एवं कुछ कड़वी सुगंध आती है।

पर्यायवाची : तपस्वि-पत्र, दमनक, दवना, दौना, ध्याम, पुंडरीक, पुण्डरीक, ब्रह्मजटा, मदनक, माल्यक, मुनिपत्र, मुनिपुत्र, साधक

३. संज्ञा / सजीव / वनस्पति / वृक्ष

अर्थ : बरगद की जाति का एक पेड़ जिसके फल के अंदर छोटे-छोटे कीड़े होते हैं।

उदाहरण : वह गूलर की छाँव में बैठा हुआ है।

पर्यायवाची : उंबरी, उड़ुंबर, उड़ुंवर, उदुंबर, ऊमर, गूलर, जंतुफल, जन्तुफल, पाणिभुज, पीतुदारु, पुष्पशून्य, ब्रह्मवृक्ष, यूका, लघुफल, शीतवल्क, श्वेतवल्कल, हेमदुग्ध

ज्याची फळे अंजीरासारखी असताता असे एक मोठे झाड.

माझ्या बागेत औदुंबर आहे
उंबर, उदुंबर, औदुंबर
मुहावरे भाषा को सजीव एवं रोचक बनाते हैं। हिन्दी भाषा के मुहावरे यहाँ पर उपलब्ध हैं।