सांझा करें ट्विटर पर सांझा करें व्हाट्सएप पर सांझा करें फेसबुक पर सांझा करें
Google Play पर पाएं
हिन्दी शब्दकोश से ब्रह्मण शब्द का अर्थ तथा उदाहरण पर्यायवाची एवं विलोम शब्दों के साथ।

ब्रह्मण (संज्ञा)

१. संज्ञा / समूह

अर्थ : हिन्दुओं के चार वर्णों में पहला वर्ण या जाति जिसका मुख्य काम पठन-पाठन, यज्ञ, ज्ञानोपदेश आदि हैं।

उदाहरण : ब्राह्मण अपने कर्म से दिन-प्रतिदिन दूर होते जा रहे हैं।

पर्यायवाची : बाम्हन, ब्राह्मण

आर्यांच्या चार वर्णांपैकी पहिला वर्ण, याची अध्ययन व अध्यापन ही कर्तव्ये सांगितली आहेत.

पूर्वी ब्राह्मण हा सर्वश्रेष्ठ वर्ण मानला जात असे
द्विज, ब्राह्मण, भूदेव, भूदेवता, विप्र

The highest of the four varnas: the priestly or sacerdotal category.

brahman, brahmin
२. संज्ञा / सजीव / जन्तु / स्तनपायी / व्यक्ति

अर्थ : हिंदुओं के चार वर्णों में से पहले वर्ण का मनुष्य।

उदाहरण : पंडित श्याम नारायण एक श्रेष्ठ ब्राह्मण हैं।
आज का ब्राह्मण अपने कर्म से विचलित होता जा रहा है।
ब्राह्मणों की उत्पत्ति अग्नि से मानी गई है।

पर्यायवाची : अनलमुख, आग्नेय, इरेश, त्रयीमुख, द्विज, द्विजपति, द्विजाति, द्विजेंद्र, द्विजेन्द्र, द्विजेश, नृदेव, नृदेवता, पंडित, बाम्हन, ब्राह्मण, भू-देव, भू-देवता, भू-सुर, भूदेव, भूदेवता, भूमिदेव, भूसुर, महिदेव, माहन, माहनीय, मैत्र, योगचक्षु, लहेर, वर्णज्येष्ठ, विप्र, वेदगर्भ, वेदाधिदेव, शिखी, सावित्र

आर्यांच्या चार वर्णांपैकी पहिल्या वर्णातील मनुष्य.

अध्ययन आणि अध्यापन हे ब्राह्मणाचे कर्तव्य सांगितले आहे
द्विज, ब्राह्मण, भुसुर, भुसूर, भूदेव, विप्र

A member of the highest of the four Hindu varnas.

Originally all brahmans were priests.
brahman, brahmin
मुहावरे भाषा को सजीव एवं रोचक बनाते हैं। हिन्दी भाषा के मुहावरे यहाँ पर उपलब्ध हैं।